लिंगाष्टकम

इस लिंगाष्टक में आठ छंद हैं। इसलिए इसे अष्टक कहा जाता है। भगवान शिव की पूजा किसी मूर्ति या छवि के रूप में मानव रूप में नहीं की जाती है। इसे केवल लिंग के आधार पर ही मापा जाना चाहिए।

लिंगाष्टकम

ब्रह्ममुरारि सुरार्चितलिंगं
तत्प्रणमामि सदाशिवलिंगं 

Advertisements

दॆवमुनि प्रवरार्चितलिंगं 
कामदहन करुणाकरलिंगं 
रावणदर्प विनाशकलिंगं 
तत्प्रणमामि सदाशिवलिंगं 

सर्वसुगंधि सुलॆपितलिंगं 
बुद्धिविवर्थन कारणलिंगं 
सिद्धसुरासुर वंदितलिंगं 
तत्प्रणमामि सदाशिवलंगं 

कनकमामणी भूशितलिंगं 
फणीपतिवॆष्टित शॊभित लिंगं 
दक्षसुयज्ञ विनाशकलिंगं 
तत्प्रणमामि सदाशिवलंगं 

यूट्यूब में मेरा वीडियो देखें

Advertisements

कुंकुमचंदन लॆपित लिंगं 
पंकजहार सुशॊभितलिंगं 
संचितपाप विनाशकलिंगं 
तत्प्रणमामि सदाशिवलिंगं 

दॆवगणार्चित सॆवितलिंगं 
भावैर्भक्तिभि रॆवचलिंगं 
दिनकरकॊटि प्रभाकरलिंगं 
तत्प्रणमामि सदाशिवलिंगं 

अष्टदळॊ परिवॆष्टितलिंगं 
सर्वसमुद्भव कारणलिंगं 
अष्टदरिद्र विनाशनलिंगं 
तत्प्रणमामि सदाशिवलिंगं 

यह पेज भी पढ़लिजिए

सुरगुरु सुरवरपूजितं लिंगं 
सुरवरपुष्प सदार्चितलिंगं 
परमपदपरमात्मकलिंगं 
तत्प्रणमामि सदाशिवलिंगं 

लिंगाष्टक मिदंपुण्यं यःपठॆच्छिवसन्निधौ शिवलॊक मवाप्नॊति शिवॆन सहमॊदतॆ.

यह पेज भी पढ़लिजिए